शनिवार, 3 दिसंबर 2016

मैं, गाँधी और चाँद चाचा

यह संस्मरण उन दिनों की है जब मैं कक्षा छह या सात में पढ़ता था और महात्मा गाँधी को पाठ्य-पुस्तक से इतर इतिहास की पुस्तकों से जानने की कोशिश में लगा हुआ था...





भारत की संस्कृति गंगा-जमुनी तहज़ीब की संस्कृति है जहाँ हिन्दू और मुसलमान एक साथ अपने एहसास के साथ जीते हैं। 1947 में जब देश का बँटवारा हुआ तो धर्म को आधार बनाकर एक नए मुल्क का जन्म हुआ लेकिन हिन्दुस्तान ने अपने धर्मनिरपेक्ष स्वरूप को बरकरार रखा और उसे अपने संविधान का अमिट हिस्सा बना लिया। आज हमारे देश में लगभग हर धर्म के लोग बेखौफ़ अपनी ज़िन्दगी जीते हैं। हिन्दुस्तान को धर्मनिरपेक्ष बनाने में उस बूढ़े महात्मा का योगदान कम करके बिल्कुल नहीं देखा जा सकता; जिसने 15 अगस्त, 1947 के दिन आज़ादी का ज़श्न दिल्ली में नहीं मनाया; जिसके लिए उसने इतनी लंबी लड़ाई लड़ी, बल्कि वह दिल्ली से सैकड़ों मील दूर कोलकाता और फिर नोआखाली में मज़हबी दंगों में हैवान बन चुके इनसान को इनसानियत की याद दिला रहा था। दिल्ली से जाते हुए उस महात्मा ने कहा था -‘‘मेरी अहिंसा लूले-लंगड़े की असहाय अहिंसा नहीं है। मेरी जीवंत अहिंसा की यह अग्नि-परीक्षा है। अगर असफल  हुआ तो मर जाऊँगा, लेकिन वापस नहीं लौटूँगा।’’
चिर-परिचित अंदाज़ में उसने एक बार फिर उसी शस्त्र का प्रयोग किया जिसके सहारे उसने ब्रिटिश हुक्मरानों से देश को आज़ाद कराने का स्वप्न देखा, जिया और फिर प्राप्त भी किया था सत्याग्रह और अहिंसा।
भारत के पहले गवर्नर जनरल के रूप में कार्य करते हुए माउंटबेटन ने भारत-पाकिस्तान बँटवारे के दौरान हुए व्यापक जनसंहार का उल्लेख करते हुए कहा था कि जब पूरा पंजाब दंगे की आग में झुलस रहा था और वहाँ हज़ारों की संख्या में मौजूद सिपाही स्थिति पर नियंत्रण नहीं कर पा रहे थे तब सत्याग्रह और अहिंसा का एक बूढ़ा सिपाही अकेले ही पूरे बंगाल में नंगे पैर घूमता हुआ दंगों की आग को बुझा रहा था।
जब मैं कक्षा छह में था तब महात्मा गाँधी को जानने की इच्छा को रोक न सका और मैंने महात्मा को पढ़ना शुरू किया। मुझे गाँधीजी का व्यक्तित्व बेहद प्रभावित करने लगा। गाँधी को जानने की प्रक्रिया जो उस दौर में शुरू हुई, वह आज तक बनी हुई है। उसी दौर में जब गाँधी को जान रहा था तब देश में राम जन्मभूमि और बाबरी मस्जिद का विवाद अपने उन्माद पर था और एकबार फिर कुछ इनसान हैवान बनने की तैयारी कर चुके थे। देश में मज़हबी उन्माद का दौर शुरू हो चुका था जिसे मैं गाँधी को पढ़ने के क्रम में धीरे-धीरे जानने की कोशिश कर रहा था।
एक दिन विद्‌यालय में जल्दी छुट्‌टी कर दी गई और हमें कहा गया कि जितनी जल्दी हो सके हम अपने घर पहुँच जाएँ। मैं कुछ समझ नहीं पाया कि आखिर ऐसा क्यों हुआ लेकिन फिर भी अपना बस्ता लेकर घर की ओर चल पड़ा। रास्ते रोज़ाना की तरह नहीं दिख रहे थे। सड़कों पर एक खामोशी सी पसरी हुई थी। अक्सर सुबह के ग्यारह बजे सड़कों पर भीड़भाड़ रहती है लेकिन आज का परिदृश्य बिल्कुल बदला हुआ था। मुझे विद्‌यालय से घर जाने के लिए बस पकड़नी होती है लेकिन आज सड़कों पर बसें भी नहीं दौड़ रही थीं। तकरीबन पैंतालीस मिनट तक चलने के बाद मैं अपने मोहल्ले के करीब पहुँचा, मेरा घर हावड़ा के घुसुड़ी बाज़ार के पास स्थित है। वहाँ भी सन्नाटा पसरा हुआ था। कुछ गिने-चुने लोग अपनी खुली दुकानें बंद करने की हड़बड़ी में थे। मेरे लिए शहर का यह रूप नया था क्योंकि पहली बार मैंने शहर की खामोशी को महसूस किया था। मैं घर से अभी भी पन्द्रह मिनट की पैदल दूरी पर था कि अचानक मेरे पड़ोस में रहने वाले चाँद मोहम्मद दिखे, जिन्हें मैं चाँद चाचा कहता था। उन्होंने मुझे देखते ही कहा – “आज स्कूल क्यों गए थे?” मैं उनके इस प्रश्न के लिए तैयार नहीं था। इससे पहले कि मैं कुछ कहता, उन्होंने मुझे गोद में उठा लिया और दौड़ने लगे। मैं उनके इस व्यवहार से सकते में था लेकिन उन्होंने मुझे कसकर पकड़ा हुआ था कि मैं उनकी गोद से छूट न जाऊँ। वे तकरीबन दस मिनट तक लगातार दौड़ते रहे। उनकी साँसें फूल रही थीं और धड़कन बहुत तेज़ थी। घर के दरवाज़े पर पहुँचकर उन्होंने डोर बेल बजाई और जैसे ही माँ ने दरवाज़ा खोला, उन्होंने मुझे घर के अंदर धकेलते हुए माँ से कहा – “भाभी दरवाज़ा बंद कर लो...कोई खटखटाए तो पूछकर खोलना...शहर की हालत खराब है।”......शहर की हालत खराब है...1947 में वह बूढ़ा महात्मा भी खराब हो रहे शहर की हालत को ठीक करने की ही तो कोशिश कर रहा था...उस दिन मैं गाँधी को थोड़ा-थोड़ा समझने लगा था...
-सौमित्र आनंद

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें