गुरुवार, 18 मई 2017

शैक्षणिक सत्र - 2017-2018


प्रिय विद्‌यार्थियो,
आप सबका नए शैक्षणिक वर्ष २०१७-२०१८ में हार्दिक स्वागत है। हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी हम अपनी कक्षाओं को ज्ञान की प्रयोगशालाओं में परिवर्तित करने की कोशिश करेंगे ताकि हमारे ज्ञान, अनुभव और कौशल का सम्पूर्ण विकास संभव हो सके। जीवन में ज्ञान प्राप्ति का महत्त्व तब बहुत ज्यादा बढ़ जाता है जब हमारे चारों ओर अज्ञानता का अंधेरा घना हो जाता है क्योंकि अज्ञानता के अंधेरे में मानव का विवेक और उसकी इनसानियत के खत्म हो जाने का खतरा अधिक बढ़ जाता है।
मानव जीवन में आने वाली हर कठिनाई का सामना बुद्‌धि-बल से किया जा सकता है क्योंकि ज्ञान के द्‌वारा हममें साहस, धैर्य, आत्मबल और तर्क-शक्ति का विकास होता है। इनसान जब आदिमकाल में जंगलों में रहता था और सभ्यता से बहुत दूर था तब उसने अपने बुद्‌धि और कौशल का इस्तेमाल कर आग, पहिया, पशुपालन, खेती आदि का विकास करते हुए परिवार, समुदाय, समाज, गाँव और शहर तक का लम्बा किन्तु सफल सफर तय किया।
इनसानी सभ्यता के इस यात्रा में उसके ज्ञान, बुद्‌धि, कौशल और तर्क-शक्ति ने भरपूर सहयोग दिया। आज हम विज्ञान के युग में हैं और तकनीक ने मानव जीवन को अत्यंत सहज और आरामदायक बना दिया है किन्तु इनसानी दिमाग ने आराम नहीं लिया है। वह हर नए दिन के साथ नए आविष्कारों की खोज में लगा हुआ है ताकि इनसानी जीवन को और ज्यादा सुखद और सुरक्षित बनाया जा सके।
 
मेरा सभी विद्‌यार्थियों से विनम्र अनुरोध है कि यदि आपके जीवन में असफलता का दौर लम्बा हो जाए तो अपने सहज ज्ञान, बुद्‌धि, कौशल और तर्क-शक्ति का उपयोग कर, अपने अंधेरे को खत्म करने का प्रयास करें और तब तक हार न माने जब तक सफलता रूपी रोशनी की किरण आप तक न पहुँच जाए।
 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें