रविवार, 15 अक्तूबर 2017

आत्मदीपो भव



गौतम बुद्ध ने कहा है - आत्मदीपो भव 
जब जब बाहर आलोक कम होता दिखे, अपने भीतर अपनी चेतना का आलोक जलाएँ। इस आलोक में सबकी आज़ादी, सबकी बराबरी और  सबसे भाईचारा जगमग कर उठे... 
आप सभी को दीपावली की शुभकामनाएँ

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें