कविता-आवृत्ति

कविता की आवृत्ति करना एक कला है। यह अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है। जब आप कविता की आवृत्ति करना चाहते हैं तब कुछ बातों को ध्यान में रखना बेहद जरूरी है।
पहली बात कविता के चुनाव से जुड़ी है क्योंकि आप उस कविता की आवृत्ति बेहतर ढंग से कर पाएँगे जो आपको बहुत पसंद हो, चाहे वह गंभीर कविता हो, हास्य कविता हो, दुखद कविता हो या हल्की-फुल्की सामान्य कविता। आपकी मनपसंद कविता आपको बहुत जल्दी याद भी होगी और उसे सुनाते समय आपको अत्यंत आनंद की प्राप्ति भी होगी।
दूसरी बात आवृत्तिकार से जुड़ी है कि कविता पढ़ते समय आपको कविता के मर्म को समझना होगा। जब हम एकांत में कविता पढ़ते हैं तब कविता हमारे अंदर गूँजती है लेकिन जब हम श्रोताओं के सामने कविता की आवृत्ति करते हैं तब कविता श्रोताओं के कानों में गूँजती है।
कविता की आवृत्ति के लिए यह जरूरी है कि आपको कविता अच्छी तरह से याद हो जाए। यदि आपने पूरी कविता ठीक से याद नहीं की है तो आवृत्ति के समय कविता का भाव संप्रेषित नहीं हो पाएगा और श्रोताओं को आनंद की अनुभूति नहीं होगी। 
 
"कविता-आवृत्ति" पृष्ठ पर हमने  कुछ बेहतरीन कविताओं की आवृत्ति वीडियो प्रस्तुत करने का प्रयास किया है जिससे आवृत्तिकारों की नई पीढ़ी अपनी गंभीर मौज़ूदगी दर्ज़ करा पाए।
 
 
कविता
कविता से लम्बी उदासी
 
कवि
विमलेश त्रिपाठी
 
आवृत्तिकार

 
तन्वी सुराना
 
 
 
 
कविता
पंद्रह अगस्त
 
कवि
बोधिसत्व
 
आवृत्तिकार

 
शिवम पोद्‌दार
 
 
 
 
 
 
 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें